किल्लोड़-पांवटा रूट पर एक दशक बाद दौड़ी HRTC, ऊर्जा मंत्री ने दिखाई हरी झंडी

बता दें कि इस रूट पर करीब एक दशक बाद एचआरटीसी की बस दौड़ी है। काफी लंबे समय से मांग की जा रही थी की पांवटा-किल्लोड़ रूट पर एचआरटीसी बस शुरू की जाए।

किल्लोड़-पांवटा रूट पर एक दशक बाद दौड़ी HRTC, ऊर्जा मंत्री ने दिखाई हरी झंडी
ऊर्जा मंत्री ने बस को दिखाई हरी झंडी।

पांवटा साहिब: करीब एक दशक बाद पांवटा विधानसभा क्षेत्र के अंतिम गांव किलोड़ से लेकर पांवटा तक सरकारी एचआरटीसी बस को आज हरी झंडी दिखाई गई।

ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी ने एचआरटीसी बस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके पर एसडीएम पांवटा साहिब विवेक महाजन भी मौजूद रहे। स्थानीय लोगों ने सुखराम चौधरी का स्वागत किया और एचआरटीसी बस चलने पर खुशी जाहिर की।

सुखराम चौधरी ने कहा कि इस रूट पर बस काफी लंबे समय से बंद थी। लेकिन कई मांग पत्र आने के बाद हमने इस रूट पर बस को शुरू किया है। जिससे ना केवल कॉलेज के बच्चों को फायदा होगा बल्कि महिलाएं भी 50% किराए में छूट का फायदा उठा सकेंगी।
पहाड़ प्राइम से एक्सक्लूसिव बातचीत में सुखराम चौधरी ने कहा कि निश्चित तौर पर इस रूट पर बस जाने के बाद किलोड़, माजरी, गोजर, भंगानी, मेहरवाला सिंगपुरा सहित पांवटा तक पूरे क्षेत्र के लोगों को सहूलियत मिलेगी।

इसके अलावा डाकपत्थर से किल्लोड़ तक की सड़क की खस्ता हालत पर सुखराम चौधरी ने कहा कि 20-25 दिनों में इस सड़क का काम शुरू हो जाएगा। देर इसलिए हो रही है क्योंकि यह सड़क उत्तराखंड जल विद्युत निगम के अधीन आती है। उत्तराखंड प्रशासन, जल विद्युत निगम और स्थानीय विधायक मुन्ना चौहान से हमारी बातचीत हो चुकी है। जल्द ही इस सड़क का काम शुरू हो सकेगा।

ऊर्जा मंत्री ने ये भी कहा कि इस सरकारी बस का रूट कलाथा से पांवटा के लिए शुरू किया जाएगा और जल्द ही बस इस रूट पर दौड़ेगी।

बता दें कि 7:30 बजे किलोड़ से पांवटा के लिए एचआरटीसी बस का समय है। जबकि कलाथा से ये बस कितने बजे चलेगी, ये समय निर्धारित अभी नहीं हुआ है।

बता दें कि बाहती विकास युवा मंच जिला सिरमौर ने पांवटा साहिब के भंगानी-किल्लोड़ पांवटा सरकारी बस सेवा बहाली को लेकर प्रशासन को 1 सप्ताह का अल्टीमेटम दिया था। जिसके बाद कोई संज्ञान नहीं लिया गया था। ऐसे में आज मंच ने फैसला लिया था कि खोदरी से पांवटा तक पैदल मार्च विरोध स्वरूप किया जाएगा। लेकिन इससे पहले चौधरी सुखराम में बस को हरी झंडी दिखाकर रवाना कर दिया।