टिकट आवंटन पर कांग्रेस का बड़ा फैसला, पार्टी में वंशवाद को खत्म करने का प्रयास

कांग्रेस के उदयपुर चिंतन शिविर में वंशवाद का मामला प्रमुखता से उठा और एक लंबी चर्चा के बाद टिकट आवंटन को लेकर यह फैसला लिया गया कि पार्टी में सक्रिय कार्यकर्ताओं को टिकट दिया जाएगा।

टिकट आवंटन पर कांग्रेस का बड़ा फैसला, पार्टी में वंशवाद को खत्म करने का प्रयास
डिजाइन फोटो।

डेस्क: विधानसभा चुनाव 2022 टिकट आवंटन को लेकर कांग्रेस ने बड़ा फैसला लिया है। पार्टी में वंशवाद को खत्म करने के लिए इस बार विधानसभा चुनाव में पांच साल संगठन में सक्रिय रहने वाले कार्यकर्ता को ही टिकट दिया जाएगा। राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर में लंबी चर्चा के बाद यह फैसला लिया गया है। 

कांग्रेस के उदयपुर चिंतन शिविर में वंशवाद का मामला प्रमुखता से उठा और एक लंबी चर्चा के बाद टिकट आवंटन को लेकर यह फैसला लिया गया कि पार्टी में सक्रिय कार्यकर्ताओं को टिकट दिया जाएगा। इस फैसले को सभी राज्य में प्रदेश कांग्रेस सख्ती से लागू करेगी।

चिंतन शिविर में हाईकमान ने ये भी फैसला लिया कि एक परिवार से सिर्फ एक ही व्यक्ति को टिकट दिया जाएगा। हाईकमान के इस फैसले से आम कार्यकर्ता काफी खुश है। इस बाबत हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि हाईकमान में स्पष्ट किया है कि पार्टी टिकट उन्हीं नेताओं को मिलेगा जो संगठन के काम में पिछले 5 साल से ईमानदारी से काम कर रहे हैं।

वहीं, अभी तक की बात करें तो पार्टी के किसी विधायक के निधन के बाद उसके बेटे या फिर परिवार के किसी सदस्य को टिकट दिया जाता रहा है। फिर चाहे वह संगठन से जुड़ा हो या नहीं। अब पार्टी ने स्पष्ट किया है कि टिकट उसी का होगा जो लंबे समय से पार्टी के लिए काम कर रहा है।