अंधेरे का सहारा लेकर देवदार काट रहे थे आरोपी, मौके पर पहुंचे फॉरेस्ट गार्ड पर किया हमला

शुक्रवार रात को जब बैरा वन बीट का वन रक्षक भिंद्र सिंह केहलरा के पास गश्त कर रहा था तो उसी दौरान जंगल में पेड़ काटने की आवाज सुनाई दी। आवाज को सुनकर वह जंगल के भीतर पहुंच गया।

अंधेरे का सहारा लेकर देवदार काट रहे थे आरोपी, मौके पर पहुंचे फॉरेस्ट गार्ड पर किया हमला
फॉरेस्ट गार्ड पर हमला (कॉन्सेप्ट इमेज)।

चुराह: वनों के रक्षकों को वन माफिया और सरकारी वनों को अपनी संपत्ति समझने वाले लोगों से अक्सर उलझना पड़ता है। ऐसे में वन रक्षकों के साथ कई बार अप्रिय घटनाएं भी सामने आती है। ऐसा ही एक मामला चंबा में देखा गया है। जहां जंगल में अवैध रूप से देवदार का पेड़ काटने से रोकने पर चार वन काटुओं ने वन रक्षक पर हमला कर दिया। 

दरअसल, शुक्रवार रात को जब बैरा वन बीट का वन रक्षक भिंद्र सिंह केहलरा के पास गश्त कर रहा था तो उसी दौरान जंगल में पेड़ काटने की आवाज सुनाई दी। आवाज को सुनकर वह जंगल के भीतर पहुंच गया। जहां चार लोग अवैध रूप से देवदार का पेड़ काट रहे थे। इसको लेकर जब वन रक्षक ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो वन काटुओं ने उसपर हमला कर दिया। वन रक्षक के साथ दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी भी था। उसे भी हमले में चोटें पहुंची हैं। जब जंगल में हंगामा बढ़ने लगा तो वन काटु वहां से भाग गए। 

वन रक्षक ने आरोपियों की पहचान कर पुलिस में एफआईआर दर्ज करवा दी है। पुलिस ने शनिवार को वन रक्षक के साथ जंगल में काटे गए पेड़ का मुआयना किया। साथ ही घायल वन रक्षक और उसके साथ मौजूद दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी का मेडिकल करवाया। 

पुलिस को दी शिकायत में वन रक्षक ने पुलिस में आरोपी जंगशिव, देवी चंद, रविंद्र कुमार और हरि सिंह सभी निवासी गांव केहलरा के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस ने वन रक्षक की शिकायत पर चारों आरोपियों के खिलाफ वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। वन मंडल अधिकारी कमल भारती ने बताया कि वन काटुओं ने वन रक्षक के साथ मारपीट की है। इस मामले में पुलिस और वन विभाग गंभीरता से जांच कर रहे हैं। अवैध कटान करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।