बंदर की वजह से कचरा ट्रीटमेंट प्लांट में लगी भीषण आग, कर्मचारियों ने भागकर बचाई जान

कचरे से प्लास्टिक को अलग करने वाली टोमल मशीन के साथ लगती बिजली की लाइन पर बंदर चढ़ा था, जिस वजह से यहां शार्ट शर्किट हुआ।

बंदर की वजह से कचरा ट्रीटमेंट प्लांट में लगी भीषण आग, कर्मचारियों ने भागकर बचाई जान
नगर परिषद हमीरपुर के कचरा ट्रीटमेंट प्लांट में भीषण अग्निकांड।

हमीरपुरः हिमाचल प्रदेश के कई जिलों में जंगल धधक रहे हैं। कई जगह पर आग पर काबू पा लिया गया है। लेकिन आगजनी की घटनाएं लगातार सामने आ रही है। आज शाम हमीरपुर नगर परिषद के कचरा ट्रीटमेंट प्लांट में अचानक आग भड़क गई।

हमीरपुर नगर परिषद के कचरा ट्रीटमेंट प्लांट दगनेड़ी में ये भीषण अग्निकांड पेश आया। आग लगने से जहां कचरा राख हो गया तो वहीं, 80 लाख की मशीनें भी जलकर राख हो गई हैं। शनिवार शाम करीब चार बजे शार्ट शर्किट के कारण ये आग लगी। 

दरअसल, कचरे से प्लास्टिक को अलग करने वाली टोमल मशीन के साथ लगती बिजली की लाइन पर बंदर चढ़ा था, जिस वजह से यहां शार्ट शर्किट हुआ और कचरे ने आग पकड़ ली। यहां से गुजरने वाली थ्री फेज लाइन की चपेट में बंदर के आने से हुए शॉर्ट सर्किट के कारण चिंगारी नीचे कूड़े पर पड़ी। 

इस कारण आग तेजी से फैल गई। कूड़े में आग ने भयंकर रूप धारण कर लिया। देखते ही देखते प्लांट की मशीनरी की ओर भी आग चली गई। यहां तैनात कर्मचारियों ने भागकर अपनी जान बचाई। चार में से दो मशीनों को भी सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। 

इसके अलावा एक बेलिंग और एक ट्रोमल मशीन आग की चपेट में आ गई। दमकल विभाग और ग्रामीणों सहित नगर परिषद के कर्मचारी देर शाम तक आग पर काबू पाने में लगे रहे। स्थानीय लोगों ने प्लांट से आग औ धुआं उठता देख दमकल विभाग को इसकी सूचना दी। 

इसके बाद मौके पर दमकल विभाग की टीम ने अगा को बुझाने के प्रयास शुरू किया। लेकिन विभाग की एक बड़ी गाड़ी से आग पर काबू नहीं पाया जा सका। जिसके बाद दूसरी गाड़ी देर शाम तक आग बुझाने में जुटी रही और आग पर काबू पाया गया। 

गौर रहे कि एनजीटी नियमों का उल्लंघन करने के चलते नगर परिषद हमीरापुर लंबे  समय से विवादो में चल रही है। साथ ही अब यहां आग लगने के कारण शनिवार को स्थानीय ग्रामीणों और एनजीटी में शिकायत करने वाले लोगों ने इस घटना के बारे में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को सूचित कर दिया है।

शिकायतकर्ता का कहना है कि यहां लगातार नियमों की अनदेखी हो रही है। आग लगने से संपति के साथ पर्यावरण को भी नुकसान हुआ है।  इस बारे में नगर परिषद हमीरपुर के अध्यक्ष मनोज मिन्हास ने कहा कि अग्रिकांड से ट्रीटमेंट प्लांट की मशीनरी,शेड और अन्य उपकरण जले हैं। 

इससे 80 लाख रुपये के नुकसान का अनुमान है। बिजली की थ्री फेज लाइन की चपेट में आए बंदर के कारण ये हादसा हुआ है। बाकि घटना की जांच की जा रही है।