तू-तड़ाक से बच्चों को समझाते नजर आए विधानसभा उपाध्यक्ष, मासूम को जड़ दिया थप्पड़!

वीडियो राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला रेला चंबा का बताया जा रहा है।

तू-तड़ाक से बच्चों को समझाते नजर आए विधानसभा उपाध्यक्ष, मासूम को जड़ दिया थप्पड़!
छात्रों को समझाते हंसराज।

चंबा: बीते दिनों हमने आपको चंबा का एक ऐसा स्कूल दिखाया जहां 11वीं 12वीं कक्षा को पढ़ाने वाला एक भी अध्यापक नहीं है। ऐसा नहीं है कि अध्यापक बीते कुछ दिनों से नहीं है। पिछले 5 साल से इस स्कूल में 11वीं 12वीं कक्षा को पढ़ाने वाला कोई अध्यापक नहीं पहुंचा।

अब कायदे से होना तो यह चाहिए था कि सरकार इस खबर पर संज्ञान लेती और यहां अध्यापक की व्यवस्था करवाती, लेकिन जो तस्वीरें सामने आई वो आपको हैरान कर देगी।

विधानसभा के उपाध्यक्ष और चुराह से विधायक हंसराज अगले दिन इस स्कूल में पहुंचें। एक ही कमरे में कई छात्रों को एकत्रित किया और उनके साथ काफी देर तक तू-तड़ाक से बातचीत करते रहे। 

सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले बच्चे इस दौरान घबराए हुए नजर आए। लेकिन हद तो तब हो गई जब वीडियो में देखा गया कि विधानसभा अध्यक्ष हंसराज एक छात्र को थप्पड़ जड़ देते हैं।

हालांकि वीडियो में ये साफ नहीं दिखाई दे रहा है लेकिन आप जब गौर से देखेंगे तो मालूम चलेगा कि विधानसभा उपाध्यक्ष ने छात्र के सर पर थप्पड़ जड़ दिया। 

इतना ही नहीं पूरे सेशन के दौरान विधानसभा उपाध्यक्ष छात्रों को डांट फटकार लगाते नजर आए। तू-तड़ाक से बातचीत करते नजर आए। यहां तक कि छात्रों को कैसे खड़ा होना है, कैसे बैठना चाहिए, कैसे बातचीत करनी चाहिए, ये तमाम चीजें गुस्से में बताते नजर आए।

इन दिनों हिमाचल में आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच शिक्षा व्यवस्था पर जंग छिड़ी हुई है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने सूबे के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर को खुली चुनौती दी है कि आइए स्कूलों की व्यवस्था और शिक्षा व्यवस्था पर खुले मंच पर बहस करें। लेकिन हिमाचल विधानसभा के उपाध्यक्ष हंसराज ने हिमाचल प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था और स्कूल के हालात की पोल खुद खोल दी है।

चुराह कांग्रेस सेवा दल के नेता प्रकाश ने यहां तक कहा कि विधानसभा उपाध्यक्ष ने कई छात्रों को धमकाया। ऐसे में सवाल कई उठते हैं कि आखिर विधानसभा उपाध्यक्ष को छात्र को थप्पड़ मारने का अधिकार किसने दिया। जब विधानसभा उपाध्यक्ष छात्रों को तू तड़ाक से समझा रहे थे तब स्कूल के प्रिंसिपल या अन्य अध्यापक कहां थे  क्या स्कूल में अध्यापक भी इसी तरह से बच्चों को समझाते हैं। छात्रों को पीटने का अधिकार तो अब अध्यापकों को भी नहीं है। 

इस पूरे घटनाक्रम पर चुराह कांग्रेस सेवादल के नेता प्रकाश भूटानी ने अपनी प्रतिक्रिया दी।  प्रकाश ने कहा कि जिस छात्र को विधानसभा उपाध्यक्ष ने थप्पड़ मारा और अभद्र भाषा से अपमानित किया, उनके अभिभावक सामने आएं ताकि विधानसभा उपाध्यक्ष पर कानूनी कार्रवाई की जाए। 

आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला तो चलता रहेगा। आप वीडियो देखिए और खुद तय कीजिए कि क्या विधानसभा उपाध्यक्ष का ये रवैया उचित था या नहीं।