कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन की दूसरी टनल हुई ब्रेक थ्रू, 8 महीने में मिले दोनों छोर

खास बात यह है कि आठ माह की अवधि में ही यह टनल ब्रेकथ्रू कर दी है। जुलाई 2021 में काम शुरू हुआ था और अप्रैल 2022 में यह कार्य पूरा कर लिया गया।

कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन की दूसरी टनल हुई ब्रेक थ्रू, 8 महीने में मिले दोनों छोर

बिलासपुर: कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन के तहत निर्माणाधीन तुन्नू ढलियार टनल नंबर तीन ब्रेक थ्रू हो गई है। इसका शुभारंभ गुरूवार को निर्माता कंपनी प्रबंधन व जिला प्रशासन की ओर से एसडीएम की मौजूदगी में हवन-यज्ञ के साथ किया गया। खास बात यह है कि आठ माह की अवधि में ही यह टनल ब्रेकथ्रू कर दी है। जुलाई 2021 में काम शुरू हुआ था और अप्रैल 2022 में यह कार्य पूरा कर लिया गया। 

कैंचीमोड़-मैहला के बाद तुन्नू ढलियार दूसरी टनल है जो कि ब्रेक थू्र हो चुकी है। कंपनी के महाप्रबंधक कर्नल बीएस चौहान के अनुसार फोरलेन कार्य को तेज गति मिलने के लिए बिलासपुर के उपायुक्त पंकज राय हरसंभव सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि फोरलेन पर मंडी की सीमा तक पांच टनल निर्माणाधीन हैं। इसके तहत कैंचीमोड़ से मैहला के लिए बन रही टनल की लंबाई 1800 मीटर है। थापना टनल की लंबाई 465 मीटर, तुन्नू से ढलियार टनल की लंबाई 550 मीटर, मल्यावर टनल की लंबाई 1265 मीटर और मंडी जिला में आने वाली टनल डैहर के पास 740 मीटर लंबी बनेगी जिनका कार्य जारी है। एक निश्चित समयावधि के अंदर इन टनल का काम पूरा किया जाएगा। पांचों टनल की कुल लंबाई 4.820 किलोमीटर है।

गावर कंपनी के सीनियर टीम लीडर कम सीनियर टनल इंजीनियर राजेश ठाकुर ने बताया कि कैंचीमोड़ से लेकर भवाना तक फोरलेन की लंबाई 47.75 किलोमीटर है। पांच टनल की लंबाई 4.820 किलोमीटर है। दिसंबर तक सभी का कार्य कंपलीट हो जाएगा। उन्होंने बताया कि टीहरा टनल का कार्य 230 मीटर शेष बचा है। जबकि बाकी का काम भी तेज गति से दिन रात जारी है। दिसंबर तक सभी टनल बनकर तैयार होंगी। टनल शुभारंभ के मौके पर जिला प्रशासन की ओर से एसडीएम सुभाष गौतम के अलावा जेसीटी कंपनी के राजेश मुर्गई के अलावा दिवाकर सिंह परिहार, राजेश सोनकर सहित कई अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें: पिस गई मारुति-पलट गई डस्टर, दो कारों की जोरदार टक्कर