टिफिन बम मामला: हिमाचल में छिपे आरोपियों तक कैसे पहुंची पंजाब पुलिस? आरोपी के परिवार का है आपराधिक रिकार्ड

एसआईटी द्वारा लगातार यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि सन्नी के चचेरे भाई अमनदीप की तरह कोई अन्य युवा इसके संपर्क में तो नहीं है या फिर इस तरह की गतिविधियों को अंजाम तो नहीं दे रहा है।

टिफिन बम मामला: हिमाचल में छिपे आरोपियों तक कैसे पहुंची पंजाब पुलिस? आरोपी के परिवार का है आपराधिक रिकार्ड
टिफिन बम मामला।

ऊना: हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के सिंगा गांव में टिफिन बम बरामद होने से हर कोई हैरान है। शनिवार को ऊना जिला के सिंगा गांव में कुएं में बरामद किए गए टिफिन बम मामले में गठित हिमाचल पुलिस द्वारा गठित एसआईटी भी सघनता से जांच कर रही है। एसआईटी इस पूरे मामले में कुल्लू में टैक्सी में हुए धमाके और पंजाब में हुए बम धमाकों के मुख्य आरोपी और सिंगा गांव निवासी कुलदीप के स्थानीय संपर्क खंगाल रही है। 

इस सिलसिले में रविवार को पुलिस ने आरोपियों के संपर्क वाले कई युवाओं से पूछताछ की। एसआईटी द्वारा लगातार यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि सन्नी के चचेरे भाई अमनदीप की तरह कोई अन्य युवा इसके संपर्क में तो नहीं है या फिर इस तरह की गतिविधियों को अंजाम तो नहीं दे रहा है। एसआईटी को लीड कर रहे बनगढ़ बटालियन के कमांडेंट विमुक्त रंजन ने मामले में कुछ भी बताने पर कहा कि अभी मामले में मीडिया से साझा करने लायक कुछ भी नहीं है। 

ये है पूरा मामला
दरअसल, मामले के तार पंजाब बम ब्लास्ट से जुड़े हैं। बीते वर्ष पंजाब के रूपनगर में पुलिस चौकी कलमां में बम धमाका हुआ था। इस मामले में पंजाब के कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया था। आरोपियों से पूछताछ के बाद उना जिले के सिंगा गांव के तीन युवकों के नाम सामने आए थे। इस गांव के युवक को सिंगा में छुपाने के लिए एक विस्फोटक और अन्य सामग्री दी गई थी। उनके कहने पर पंजाब पुलिस की टीम शुक्रवार देररात को ही सिंगा गांव में पहुंच गई थी, लेकिन रात होने के कारण जांच नहीं हो पाई। शनिवार को काफी देर तक पुलिस टीम ने कुएं में तलाशी अभियान जारी रखा। पुलिस ने हरोली के गांव सिंगा में कई साल से बंद पड़े कुएं में से दो गोताखोरों की मदद से विस्फोटक सामग्री को निकाला। पंजाब पुलिस की कार्रवाई की सूचना मिलते ही एसपी ऊना व प्रथम बटालियन के कमांडेंट विमुक्त रंजन व एसपी अर्जित सेन पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पंजाब से आई फारेंसिक टीम ने भी कुएं के आसपास जगह का निरीक्षण करके सबूत जुटाए।

लोकल कनेक्शन पर हिमाचल पुलिस का फोकस
पंजाब पुलिस शनिवार को ही गांव के युवक अमनदीप को गिरफ्तार कर ले गई थी। वहीं, हिमाचल प्रदेश पुलिस की एसआईटी की जांच कुल्लू में टैक्सी में हुए बम धमाके और आरोपी के लोकल कनेक्शन पर केंद्रित है। पंजाब से जुड़े कनेक्शन पर हिमाचल पुलिस केंद्रित नहीं है, क्योंकि इस मामले में पंजाब पुलिस जांच कर रही है। बताया जा रहा है कि एसआईटी टीम इस मामले के मुख्य आरोपी कुलदीप उर्फ सन्नी का प्रोडक्शन वारंट पंजाब पुलिस से लेने की तैयारी में है। प्रोडक्शन वारंट को लेकर हिमाचल पुलिस कुलदीप के हिमाचल और लोकल कनेक्शन की पड़ताल करेगी। हिमाचल डीजीपी संजय कुंडू ने एसआईटी से एक हफ्ते में रिपोर्ट देने के लिए कहा है।

आरोपी के परिवार का है आपराधिक रिकार्ड
पंजाब पुलिस की गिरफ्त में चल रहा कुलदीप कुमार उर्फ सन्नी लंबे समय से अनैतिक कार्यों से जुड़ा हुआ है। उसका अपने गांव में आना-जाना भी कम होता है, क्योंकि वह 20 साल पहले लुधियाना चला गया था। आरोपित के पिता व अन्य रिश्तेदार का भी आपराधिक रिकार्ड रहा है जबकि कुलदीप लुधियाना में पहले रेहड़ी-फड़ी लगाता था। उसके चाचा का बेटा अमनदीप कुमार गांव में ही हेयर सैलून चलाता है।