दो बसों पर पहाड़ी से गिरे पत्थर, चालक की सूझबूझ और भगवान की कृपा से बची कई लोगों की जान

उत्तराखंड में आज पहाड़ी से बस के उपर पत्थर गिरने की दो घटनाएं पेश आई। पहली घटना रुद्रप्रयाग जिले से सामने आई। तो वहीं, आज ही ऐसी दूसरी घटना केदारनाथ राजमार्ग पर काकड़ागाड़ के करीब पेश आई।

दो बसों पर पहाड़ी से गिरे पत्थर, चालक की सूझबूझ और भगवान की कृपा से बची कई लोगों की जान
दुर्घटनाग्रस्त बस।

रुद्रप्रयागः बरसात का मौसम अभी ठीक से शुरू हुआ भी नहीं कि पहाड़ी राज्यों में भूस्खलन की खबरें सामने आ रही है। ताजा मामला उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग का है। यहां सीतापुर पार्किंग एग्जिट के नजदीक ही एक बस पर पहाड़ी से बड़े-बड़े पत्थर और चट्टाने खिसक गई। 

ये चट्टाने बस चालक की सीट वाले हिस्से की तरफ गिरी और यही वजह है कि कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। गनीमत तो ये भी रही कि बस में कोई यात्री सवार नहीं था। मौके पर फिर बाद में पुलिस पहुंची। सड़क पर गिरे पत्थरों को हटाया गया। 

कुछ देर बाद यातायात को बहाल किया गया। इसके बाद बस को क्रेन और अन्य साधनों की मदद से सुरक्षित स्थान तक ले जाया गया। बस का नंबर यूके-15पीए-0117 था।

उधर, आज ही ऐसी दूसरी घटना केदारनाथ राजमार्ग पर काकड़ागाड़ के करीब पेश आई। यहां पहाड़ी से अचानक पत्थर गिरने की वजह से सोनप्रयाग जा रही बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई। पत्थर ड्राइवर के सामने वाले शीशे से बस के अंदर तक घुस गए। दो लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। 

घायलों को तत्काल 108 एंबुलेंस की मदद से सरकारी अस्पताल अगस्त्यमुनि ले जाया गया। बस का नंबर यूके-13पीए-0639 था। वाहन चालक अनिल प्रसाद कहते हैं कि पहाड़ी से पत्थर गिरे।

घटना उनकी आंखों के सामने घटी। वो कहते हैं कि मैनें तुरंत बैक गियर डाला और बस को पीछे सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया। बस में के अंदर चीख-पुकार मच गई थी। सभी यात्रियों को सुरक्षित बस से उतारा गया। फिलहाल कुछ लोगों को चोटे आई हैं।