जगत सिंह नेगी ने BJP और DC पर फिर दागे सवाल, लगाए ये आरोप

कांग्रेस विधायक जगत सिंह नेगी ने एफआरए के तहत मिलने वाली भूमि को लेकर कई सवाल प्रशासन पर दागे। उन्होंने यह भी कहा कि जिले में पांच लोगों को प्रशासन ने एफएआर यानी फॉरेस्ट राइट एक्ट 2006 के..

जगत सिंह नेगी ने BJP और DC पर फिर दागे सवाल, लगाए ये आरोप
MLA जगत सिंह नेगी ने लगाए आरोप।

किन्नौर: किन्नौर के एकमात्र विधायक जगत सिंह नेगी ने एक बार फिर बीजेपी और किन्नौर प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कांग्रेस विधायक जगत सिंह नेगी ने एफआरए के तहत मिलने वाली भूमि को लेकर कई सवाल प्रशासन पर दागे।
उन्होंने यह भी कहा कि जिले में पांच लोगों को प्रशासन ने एफएआर यानी फॉरेस्ट राइट एक्ट 2006 के तहत पट्टे आवंटित किए हैं। जबकि उन 5 लोगों को यह भूमि के पट्टे 1984 के बंदोबस्त कब्जे के तहत मिले हैं, ना की एफआरए के तहत।

जगत सिंह नेगी ने रिकांगपिओ मे मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि यदि प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन वाकई मे एफआरए के तहत जिला के लोगो को भूमि के पट्टे आबंटित करना चाहती है, तो जिला के तीनो खंडो मे अधिकारियों के पास हजारों की संख्या मे लंबित पड़े मामलो को क्यों लागू नहीं कर रही। कहा कि जिला के लोग लगातार एफआरए के तहत भूमि के पट्टे लेने के लिए पिछले कई वर्षो से प्रयास कर रहे है। ये कानून भाजपा सरकार के समय नहीं बना, बल्कि केंद्र मे कांग्रेस की सरकार थी, तब ये क़ानून ऐसे लोगो के लिए लाया गया जो जंगलों के अंदर ऐसी जमीन पर जहां वे अपनी आय के साथ उस भूमि पर आश्रित थे। 

ये भी पढ़ें: HRTC स्टाफ की मानवता, ड्यूटी से ऊपर रखी इंसानियत

नेगी कहते हैं कि ऐसे लोगों के लिए यह क़ानून बनाया गया और जिला के अंदर हजारों की संख्या मे आज भी लोग एफआरए के तहत मिलने वाली भूमि के पट्टे को लेकर संघर्ष कर रहे है। नेगी ने कहा कि प्रशासन व सरकार गलत तरीके से जनता को गुमराह कर रही है जो सही नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि किन्नौर में प्रशासन के अधिकारी भाजपा के नेताओं के इशारों पर काम कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: बाघल रियासत की आस्था का केंद्र है श्री बनिया देवी, अष्टमी के अवसर कुलदेवी के दर उमड़े श्रद्धालू