बेटी की शादी के लिए खरीददारी के दौरान गुम हुआ पैसों से भरा बैग, इदरीश मिर्जा ने लौटाई पिता के चेहरे पर 'मुस्कान'

होशियारा राम सोमवार को अपनी बेटी की शादी का सामान लेने बाजार आए हुए थे। इसी दौरान उनका बैग डोगरा बाजार के समीप गिर गया। कुछ समय बाद जब होशियारा राम को बैग का ध्यान आया तो वो बेहद परेशान हो गए।

बेटी की शादी के लिए खरीददारी के दौरान गुम हुआ पैसों से भरा बैग, इदरीश मिर्जा ने लौटाई पिता के चेहरे पर 'मुस्कान'

चंबा: पाई-पाई जोड़कर जिस पिता ने अपनी बेटी को डोली में बिठाने का सपना संजोया हो, अगर उसकी सारी पूंजी पल भर में गायब हो जाए तो सोचिए कि उस पिता की मनोस्थिति क्या होगी। बढ़ते छल-कपट और चोरी-चकारी के दौर में आज भी भलाई ईमानदारी और इंसानियत जिंदा है। ऐसे ही ईमानदार व्यक्ति की चंबा शहर में इन दिनों खूब चर्चा हो रही है। इदरीश मिर्जा ईमानदारी की मिसाल इसलिए बने हैं, क्योंकि जब उन्हें सड़क पर पैसों से भरा बैग मिला तो बड़ी रकम देखकर उनका ईमान नहीं डगमगाया और उन्होंने वो किया जो आज के जमाने में बहुत कम लोग ही करते हैं।

दरअसल, भरमौर निवासी होशियारा राम सोमवार को अपनी बेटी की शादी का सामान लेने बाजार आए हुए थे। इसी दौरान उनका बैग डोगरा बाजार के समीप गिर गया। कुछ समय बाद जब होशियारा राम को बैग का ध्यान आया तो वो बेहद परेशान हो गए और बाजार में बैग की तलाश करने लगे, लेकिन बैग कहीं नहीं मिला। 

होशियारा राम का पैसों से भरा ये बैग डोगरा बाजार में एक दुकान के बाहर सड़क पर गिर गया था, जो दुकानदार इदरीश मिर्जा को मिला था। जब मिर्जा ने बैग को खोलकर देखा तो उसमे साढ़े छह लाख रुपये कैश था। इदरीश मिर्जा ने बैग को उठाकर अपनी दुकान में रख लिया। कुछ देर बाद होशियारा राम बैग को तलाशते हुए डोगरा बाजार में आए। बैग न मिलने से वो काफी परेशान थे। 

इसी दौरान इदरीश ने होशियारा राम को दुकान पर बुलाया और परेशानी का कारण पूछा। होशियारा राम ने पूरा वाक्या इदरीश मिर्जा को बताया तो इदरीश ने पैसों से भरा बैग होशियारा राम के हाथों में थमा दिया। इसके बाद होशियारा राम ने राहत की सांस ली और इदरीश मिर्जा का आभार जताया। बिना किसी मेहनत के साढ़े छह लाख रुपये मिलने पर किसी के मन में भी लालच आ सकता था, लेकिन पैसे देखकर इदरीश का ईमान नहीं डोला और उन्होंने ईमानदारी की मिसाल पेश की।