JBT भर्ती पर हाईकोर्ट की सशर्त मंजूरी, NCTE नोटिफिकेशन के अनुसार पद भरने पर फैसला

खंडपीठ ने राज्य सरकार के इस आवेदन को स्वीकार करते हुए कहा कि राज्य सरकार जेबीटी के पदों को एनसीटीई की ओर से जारी 28 जून 2018 की अधिसूचना के अनुसार ही भर सकती है।

JBT भर्ती पर हाईकोर्ट की सशर्त मंजूरी, NCTE नोटिफिकेशन के अनुसार पद भरने पर फैसला
जेबीटी भर्ती पर हाईकोर्ट का फैसला।

शिमला: चार सालों से अटकी हुई जेबीटी भर्ती को प्रदेश हाईकोर्ट ने सशर्त मंजूरी दे दी है। न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान और न्यायाधीश सत्येन वैद्य की खंडपीठ ने राज्य सरकार के इस आवेदन को स्वीकार करते हुए कहा कि राज्य सरकार जेबीटी के पदों को एनसीटीई की ओर से जारी 28 जून 2018 की अधिसूचना के अनुसार ही भर सकती है। 

न्यायालय ने स्पष्ट किया कि पुनर्विचार याचिका और सर्वोच्च न्यायालय के अंतिम निर्णय पर ही जेबीटी भर्ती निर्भर करेगी। राज्य के महाधिवक्ता ने हाईकोर्ट से इस मामले पर दोबारा विचार करने और सरकार को इन पदों को भरने की अनुमति मांगी थी। उल्लेखनीय है कि 26 नवंबर 2021 को हाईकोर्ट ने जेबीटी भर्ती मामले पर फैसला सुनाते हुए स्पष्ट किया था कि शिक्षकों की भर्ती के लिए एनसीटीई की ओर से निर्धारित नियम प्रारंभिक शिक्षा विभाग के साथ-साथ कर्मचारी चयन आयोग पर भी लागू होते हैं। कोर्ट ने विभिन्न याचिकाओं को स्वीकार करते हुए प्रदेश सरकार को यह आदेश भी दिए थे कि वह 28 जून 2018 को एनसीटीई की अधिसूचना के अनुसार जेबीटी पदों की भर्ती के लिए नियमों में जरूरी संशोधन करे।

4 सालों से रिजल्ट के इंतजार में 30 हजार अभ्यर्थी
कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर ने दिसंबर 2018 को प्रारंभिक शिक्षा विभाग में जेबीटी अध्यापकों के 617 पदों को भरने के लिए आवेदन मांगे थे। इन पदों के लिए प्रदेश भर से करीब 42 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया। 12 मई 2019 को लिखित परीक्षा ली गई। लिखित परीक्षा में 30 हजार से अधिक अभ्यर्थी उपस्थित हुई, लेकिन बीएड उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के न्यायालय में चले गए और भर्ती प्रक्रिया पर स्टे लग गया।

कोर्ट के फैसले से जेबीटी पदों के लिए बीएड डिग्री धारक भी पात्र हो गए थे, लेकिन बाद में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार की ओर से दायर पुनर्विचार याचिका में पारित आदेशों के अनुसार इस फैसले पर रोक लगा दी थी। जिसके बाद बीएड डिग्री धारक फिर से इन पदों की दौड़ से बाहर हो गए थे। बीएड डिग्री धारक याचिकाकर्ताओं की मांग थी कि जेबीटी भर्ती के लिए उन्हें योग्य समझा जाए, क्योंकि वो बीएड डिग्री धारक होने के साथ टेट क्वालिफाइड भी हैं और एनसीटीई के नियमों के तहत जेबीटी शिक्षक बनने के लिए पात्रता रखते हैं। एनसीटीई के नियमों के तहत बीएड डिग्री धारक जेबीटी के पदों की भर्ती के लिए सशर्त पात्र बनाए गए हैं। जिन्हें नियुक्ति प्राप्त करने के बाद 6 महीने का अतिरिक्त ब्रिज कोर्स करना होगा।