अमलैहड़ जंगल में लगी भीषण आग, स्थानीय लोगों ने पिकनिक मनाने वालों पर लगाए आरोप

रविवार दोपहर बाद अमलेहड़ के सरकारी जंगल मे अचानक आग सुलग उठी। शाम होते-होते इस आग ने रौद्र रूप धारण कर लिया और पूरी रात आग की लपटों में वन्य प्राणी और वन संपदा खाख होती रही।

अमलैहड़ जंगल में लगी भीषण आग,  स्थानीय लोगों ने पिकनिक मनाने वालों पर लगाए आरोप
अमलैहड़ जंगल में लगी भीषण आग।

गगरेट: बढ़ती तापमान के साथ दिनों-दिन आगजनी की घटनाएं भी तेजी से बढ़ रही है। जिला ऊना के गगरेट विधानसभा क्षेत्र के गांव अमलेहड़ के जंगल मे भीषण आग ने लाखों की वन संपदा स्वाह कर दी है। बताया जा रहा है कि रविवार दोपहर बाद अमलेहड़ के सरकारी जंगल मे अचानक आग सुलग उठी। शाम होते-होते इस आग ने रौद्र रूप धारण कर लिया और पूरी रात आग की लपटों में वन्य प्राणी और वन संपदा खाख होती रही। 

इस भीषण आग से पूरे क्षेत्र में धुआं फैल गया। हालांकि रात को फायर ब्रिगेड के जवान एवं स्थानीय लोग आग बुझाने का प्रयास करते रहे, लेकिन आग की भीषण लपटों पर काबू नहीं पाया जा सका। आग के इस तांडव ने सैकड़ों कनाल जंगल में चीड़, खैर व अन्य पेड़, वनस्पति, जीव जंतु जलकर राख कर दिए हैं।

ये भी पढ़ें: टिफिन बम मामला: हिमाचल में छिपे आरोपियों तक कैसे पहुंची पंजाब पुलिस? आरोपी के परिवार का है आपराधिक रिकार्ड

स्थानीय लोगों का आरोप
आग लगने के पुख्ता कारणों का अभी भी पता नहीं चल पाया है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि रविवार के दिन इस क्षेत्र के जंगलों में सैकड़ों की संख्या में बाहरी लोग पिकनिक मनाने या फिर घूमने पहुंचते हैं और यही लोग जाते-जाते इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे जाते हैं। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि ऐसे लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया जाए ताकि स्थानीय वन संपदा को नुकसान होने से बचाया जा सके।