4 मकान राख, 10 बेजुबान जिंदा जले, नेटवर्क ना होने से प्रशासन तक देर से पहुंची अग्निकांड की सूचना

बता दें कि आग पहले एक मकान में भड़की। इसके बाद देखते ही देखते आग ने आसपास के तीन और मकान भी चपेट में ले लिए। जिससे अग्निकांड में लाखों रुपये के नुकसान होने का अनुमान है।

4 मकान राख, 10 बेजुबान जिंदा जले, नेटवर्क ना  होने से प्रशासन तक देर से पहुंची अग्निकांड की सूचना
चंबा में भीषण अग्निकांड।

चंबाः हिमाचल में इन दिनों जंगल जल रहे हैं। कोई भी जिला ऐसा नहीं जहां जंगलों में आग ना लगी हो। आग ना सिर्फ जंगल में लग रही है बल्कि कई दिनों से खबरें सामने आ चुकी है कि लोगों के मकान भी जलकर राख हो गए है। गर्मी के मौसम में आग लगने की घटनाएं इसी तरह से बढ़ती है। 

जंगल में आग लगने से वहां जीव-जंतु जिंदा जल जाते हैं। ऐसे में जब आग घर या फिर पशुशाला में लग जाती है तो पशुशाला में बंधे पशु भी आग की चपेट में आ जाते हैं। ऐसी ही एक खबर जिला चंबा से सामने आई है।

यहां जिले के जनजातीय क्षेत्र पांगी की पुर्थी पंचायत के थांदल गांव में भीषण अग्निकांड देखा गया। इस भीषण अग्निकांड में चार मकान जलकर राख हो गए। इतना हीं नहीं,  10 भेड़-बकरियां भी जिंदा जल गई। 

बता दें कि आग पहले एक मकान में भड़की। इसके बाद देखते ही देखते आग ने आसपास के तीन और मकान भी चपेट में ले लिए। जिससे अग्निकांड में लाखों रुपये के नुकसान होने का अनुमान है।

ये आग कल देर रात लगी। जिसके बाद अग्निकांड में मकान से उठती आग की लपटों ने वहां डर का माहौल बना दिया। जिसे देखकर गांव में चीख पुकार मच गई थी। इसके बाद मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने पानी की बाल्टियों, बर्तनों और मिट्टी से आग बुझाने का पूरा प्रयास किया। 

आखिर में सूचना मिलने पर मंगलवार सुबह पांगी प्रशासन ने तहसीलदार और पटवारी को मौके पर भेजा। प्रशासन को सूचना देरी से मिल पाई। वो इसलिए क्योंकि पुर्थी में मोबाइल नेटवर्क की दिक्कत रहती है। 

उपमंडल अधिकारी रजनीश शर्मा कहते हैं कि राजस्व विभाग की टीम को मौके पर भेजा गया है। टीम नुकसान की रिपोर्ट तैयार करने में जुट गई है। फिलहाल नुकसान का आकलन किया जा रहा है।