11 मराठा रेजीमेंट की कैंटीन में लगी आग, करीब 3 करोड़ का सामान राख

जब तक घटनास्थल पर तैनात जवान कुछ कर पाते तबतक आग की लपटों ने पूरे कैंटीन को अपने आगोश में ले लिया। बावजूद इसके जवानों ने अपने स्तर पर आग को बुझाने का प्रयास किया। इतना ही नहीं, कुछ सामान को वहां से शिफ्ट भी किया। लेकिन आग की लपटें इतनी तेज थी कि ज्यादातर सामान को अपने चपेट में ले चुकी थी।

11 मराठा रेजीमेंट की कैंटीन में लगी आग, करीब 3 करोड़ का सामान राख
रुद्रप्रयाग में 11 मराठा रेजीमेंट की कैंटीन में लगी आग।

रुद्रप्रयागः पड़ोसी राज्य उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय में सेना की कैंटीन में अचानक आज शाम आग लग गई। ये कैंटीन 11 मराठा रेजीमेंट की थी। इस आगजनी में तीन करोड़ से अधिक का सामना जलकर राख हो गया है। 

कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। आग लगने के कारणों का स्पष्ट पता नहीं चल पाया है। लेकिन शार्ट सर्किट से आग लगने की संभावना जताई जा रही है। ये आग रविवार शाम लगभग पांच बजे के आसपास लगी। 

जब तक घटनास्थल पर तैनात जवान कुछ कर पाते तबतक आग की लपटों ने पूरे कैंटीन को अपने आगोश में ले लिया। बावजूद इसके जवानों ने अपने स्तर पर आग को बुझाने का प्रयास किया। इतना ही नहीं, कुछ सामान को वहां से शिफ्ट भी किया। लेकिन आग की लपटें इतनी तेज थी कि ज्यादातर सामान को अपने चपेट में ले चुकी थी। 

बाद में सूचना मिलने पर आधे घंटे में दमकल की गाडियां और आपदा प्रबंधन की टीम मौके पर पहुंची। शाम करीब सवा छह बजे तक आग पर काबू पाया जा सका। गनीमत रही कि आग कैंटीन के पीछे की तरफ दूसरे भवनों तक नहीं पहुंची, वरना जानमाल का इससे ज्यादा नुकसान हो सकता था। 

इसके अलावा, मौके पर पहुंचे जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार बताते हैं कि सेना के अधिकारी और जवान शार्ट सर्किट से आग लगने की संभावना जता रहे हैं। आग से काफी सामान जला चुका है और काफी नुकसान हो चुका है। लेकिन जांच के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। 

फिलहाल, खबर लिखे जाने तक मामले में सेना की तरफ से अभी कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है। बताया जा रहा है कि लगभग तीन करोड़ का सामान जलकर राख हो गया है। मामले की जांच शुरू कर दी गई है। उच्च स्तर पर जांच किए जाने की संभावना है।