हिमाचल: एक साथ 16 विंटेज कार देख उमड़ी भीड़, किसी ने सेल्फी ली तो किसी ने रील बनाई

एक साथ खड़ी इन खूबसूरत 16 विंटेज गाड़ियों को देखने के लिए कंडाघाट में लगातार लोग पहुंच रहे हैं। पुरानी गाड़ियों में बैठकर कोई सेल्फी ले रहा है तो कोई रील बना रहा है।

हिमाचल: एक साथ 16 विंटेज कार देख उमड़ी भीड़, किसी ने सेल्फी ली तो किसी ने रील बनाई
सोलन में एक साथ दिखीं 16 विंटेज कार।

सोलन: अगर आपके पास 70 साल पुरानी गाड़ी हो और उसकी स्थिति ठीक-ठाक हो तो आपकी कार किसी लग्जरी कार से कम नहीं आंकी जाएगी। पुरानी कारों की शान बेशक अलग होती है क्योंकि बहुत कम लोगों के पास पुरानी कार देखी जाती है, जब सोलन के कंडाघाट में शनिवार को एक साथ 16 विंटेज कार देखी गई तो हरकोई इनकी ओर आकर्षित हो रहा था। 

एक साथ खड़ी इन खूबसूरत 16 विंटेज गाड़ियों को देखने के लिए कंडाघाट में लगातार लोग पहुंच रहे हैं। पुरानी गाड़ियों में बैठकर कोई सेल्फी ले रहा है तो कोई रील बना रहा है। इन विंटेज कारों में कोई 1938 मॉडल है, कोई 1954 तो कोई 1955 मॉडल कार है। गाड़ियों को देखने पहुंच रहे लोग बेहद उत्सुकता से इनके बारे में जानकारी भी हासिल कर रहे हैं।

दरअसल, विंटेज एंड क्लासिक कार क्लब चंडीगढ़ द्वारा बैसाखी ड्राइव 2022 का आयोजन किया जा रहा है, जिसके तहत चंडीगढ़ से कंडाघाट तक 16 विंटेज कार पहुंची हैं। इन क्लासिक कार क्लब चंडीगढ़ के सेकेट्री बलजीत सिंह मनकू ने बताया कि उनके पास क्लब में 15 से 20 गाड़ियां 1930 के दशक से लेकर 1970 और 1980 तक की मौजूद हैं, लेकिन इन गाड़ियों की खास बात ये है कि इनकी कंडीशन अभी भी ठीक है। बता दें कि ये विंटेज कार रैली चंडीगढ़ से कंडाघाट ज्यूरिक रिसोर्ट तक पहुंची थी। इन विंटेज कार में मर्सडीज 1965, सनबीम टेलबोट 1938, फिएट 1960, कंडासा 1985, अमेरिकन कार प्लाइमोस 1955, मोररिर्स 1955, हिंदुस्तान 14-1954 मुख्य आकर्षण का केंद्र रहीं।

क्लब सेकेट्री बलजीत सिंह मनकू बताते हैं कि हर साल इन गाड़ियों को प्रदर्शनी के तौर पर बाहर निकाला जाता है, ताकि लोग इन गाड़ियों के बारे में जान सके। उन्होंने कहा कि इन गाड़ियों के माध्यम से ये क्लब लोगों को ये बताना चाहता है कि पुरानी गाड़ियां किस तरह की होती थी, क्योंकि अब लोग नई गाड़ियों की तरफ रुख कर रहे हैं, लेकिन उन्हें पुरानी गाड़ियों के बारे में कोई भी जानकारी नहीं है। ऐसे में लोग इन गाड़ियों को पसंद भी कर रहे है और सेल्फी भी ले रहे हैं। मनकू कहते हैं कि पुरानी गाड़ियां होने के चलते इन्हें यहां लाने में थोड़ी दिक्कत आई, लेकिन सड़कों की बेहतर स्थिति होने के चलते यहां तक गाड़ियां ठीक तरह से पहुंची। 

ये भी पढ़ें: झंझट से छुटकारा: जमीन रजिस्ट्री के बाद इंतकाल के लिए नहीं काटने पड़ेंगे सरकारी दफ्तरों के चक्कर