खालिस्तानियों की एक और धमकी, पन्नू के खिलाफ मामला दर्ज, शिमला रेलवे स्टेशन पर बढ़ाई सुरक्षा

सोमवार को सिख फॉर जस्टिस के नाम से एक नया वीडियो जारी हुआ है, जिसमें दावा किया गया है कि धर्मशाला में हिमाचल प्रदेश विधानसभा में उठाए गए खालिस्तान के झंडे कार्यकर्ताओं के जरिए भेजे गए थे।

खालिस्तानियों की एक और धमकी, पन्नू के खिलाफ मामला दर्ज, शिमला रेलवे स्टेशन पर बढ़ाई सुरक्षा

कांगड़ा: धर्मशाला विधानसभा के गेट और दीवारों पर खालिस्तानी झंडे लगाने और पंजाबी भाषा में खालिस्तान लिखने के मामले में एक्शन लगातार जारी है। मामले में एक तरफ जहां पुलिस ने सिख फॉर जस्टिस के प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू के खिलाफ धारा 13 के तहत गैर कानूनी गतिविधि निषेध कानून यानी यूपीए और आईपीसी की धारा 153 ए 153 बी और धारा तीन के तहत मामला दर्ज कर लिया है।  हिमाचल पुलिस ने पन्नू के खिलाफ रेड कॉनर्र नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही इंटरपोल को पत्र भी लिखा है। 

वीडियो जारी कर दी नई धमकी
वहीं, सोमवार को सिख फॉर जस्टिस के नाम से एक नया वीडियो जारी हुआ है, जिसमें दावा किया गया है कि धर्मशाला में हिमाचल प्रदेश विधानसभा में उठाए गए खालिस्तान के झंडे कार्यकर्ताओं के जरिए भेजे गए थे। वो मंडी में अरविंद केजरीवाल की जनसभा में हिस्सा लेने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ गए थे। 

गुरपतवंत सिंह पन्नू ने वीडियो में कहा है कि केजरीवाल और भगवंत मान ने पंजाब चुनाव के दौरान आप को 6 मिलियन डॉलर से अधिक का दान देने के बावजूद खालिस्तान समर्थक सिखों को धोखा दिया। अब एसएफजे खालिस्तान जनमत संग्रह को बढ़ावा देने के लिए पंजाब के सीएम भगवंत मान के करीबी कार्यकर्ताओं का इस्तेमाल करेगा। एसएफजे ने धमकी दी है कि धर्मशाला में खालिस्तान के झंडे सीएम जयराम ठाकुर के लिए स्पष्ट संदेश है कि हिमाचल को खालिस्तान जनमत संग्रह से फिर पंजाब का हिस्सा बनाया जाएगा। एसएफजे ने पहले ही यह भी घोषणा कर दी है कि जून में ऑपरेशन ब्लू स्टार के 38 हुए वर्ष के दौरान खालिस्तान समर्थक समूह हिमाचल प्रदेश में खालिस्तान जनमत संग्रह के लिए मतदान की तारीख की घोषणा करेगा।

शिमला रेलवे स्टेशन पर बढ़ाई सुरक्षा
वहीं, हिमाचल पुलिस द्वारा मामले में कार्रवाई करते हुए पन्नू के साथ-साथ कई अन्य अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धर्मशाला थाना में एफआईआर दर्ज की गई है और प्रदेशभर में हाई अलर्ट जारी किया गया है। शिमला रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा व्यवस्था भी कड़ी कर दी गई है। रेलवे स्टेशन परिसर में आने जाने वाले हर व्यक्ति पर सीसीटीवी कैमरे से नजर रखी जा रही है। रेलवे स्टेशन में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर राजकीय रेलवे पुलिस के अधिकारी और कर्मचारी मुस्तैद है। रेलवे सुरक्षा बल सीसीटीवी कंट्रोल रूम से हर गतिविधि पर पुलिस की पैनी नजर है।