ऊना में खाद्य तेल कारोबारी के घर, ऑफिस और फैक्ट्री में CBI का छापा, करोड़ों के लोन फर्जीवाड़े के आरोप

जांच में पाया गया कि कंपनी ने बैंक को धोखा दिया है। जिस कार्य के लिए लोन लिया गया है, उसपर कोई पैसा खर्च नहीं किया गया है।

ऊना में खाद्य तेल कारोबारी के घर, ऑफिस और फैक्ट्री में CBI का छापा, करोड़ों के लोन फर्जीवाड़े के आरोप
ऊना में कारोबारी के घर सीबीआई छापा।

ऊना: सीबीआई चंडीगढ़ और शिमला की टीमों ने बुधवार को 12 घंटे तक ऊना के रक्कड़ में एक खाद्य तेल कारोबारी के घर, ऑफिस और फैक्ट्री पर छापामारी की। इस दौरान सीबीआई ने कई दस्तावेज, कंप्यूटर हार्ड डिस्क आदि जब्त किए।

दरअसल, हरोली निवासी मैसर्ज तनिष्क एग्रो वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड निदेशक एवं प्रमुख तुषार शर्मा के साथ कंपनी से जुड़े कुछ लोगों पर करोड़ों रुपये के लोन फर्जीवाड़े के आरोप हैं। इस बाबत सीबीआई की शिमला शाखा में एफआईआर भी दर्ज की गई है। 

बैंक को धोखे में रखने के आरोप
आरोप है कि कंपनी ने निदेशक और गारंटर के जरिए लोन के दस्तावेजों में गारंटी देने के गलत दस्तावेजों को दर्शाया। कंपनी ने बैंक को बताया कि खाद्य तेल की पैकिंग मटिरियल बनाना उनका काम है और इससे संबंधित उपकरण खरीदने व खाद्य तेल बनाने का काम भी शुरू किया गया है। 

कंपनी ने यह भी बताया कि फैक्ट्री को स्थापित करने की बाकायदा अनुमति ली गई है। उद्योग विभाग में इस यूनिट को पंजीकृत किया गया है। बैंक से 11.70 लाख और 11.30 लाख रुपये के दो कार लोन भी लिए गए। सबकुछ होने के बाद में ये खाते एनपीए पाए गए और फिर बैंक ने जांच शुरू की। 

जांच में पाया गया कि कंपनी ने बैंक को धोखा दिया है। जिस कार्य के लिए लोन लिया गया है, उसपर कोई पैसा खर्च नहीं किया गया है। बल्कि पैसे का इस्तेमाल दूसरी समूह कंपनियों को हस्तांतरित करने में किया गया है। कंपनी को उद्योग विभाग से भी कोई मंजूरी भी नहीं मिली थी।

एसबीआई ऊना प्रबंधक की शिकायत पर एक्शन
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ऊना क्षेत्रीय प्रबंधक की शिकायत पर सीबीआई ने छापेमारी का एक्शन लिया। मैसर्ज तनिष्क एग्रो वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक एवं प्रमुख तुषार शर्मा, निदेशक श्वेता शर्मा, गारंटर निशा शर्मा और राकेश शर्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और एक अज्ञात बैंक अधिकारी को भी नामजद किया गया है। फर्जीवाड़े में करीब 3.43 करोड़ के गड़बड़झाले, करीब डेढ़ करोड़ रुपये की एक सीसी लिमिट और दो करोड़ रुपये का टर्म लोन लिया गया।