HPBOSE 12th Toppers: मेरिट लिस्ट में इस स्कूल के छात्रों की धाक, टॉप 10 में 3 छात्रों ने बनाई जगह

विज्ञान संकाय में अनुभव धीमान ने पूरे प्रदेश भर में पांचवां स्थान हासिल किया है। अनुभव ने 500 में से 488 अंक हासिल किए। जबकि तेजस्विनी ने पूरे प्रदेशभर में 8वां स्थान हासिल किया है।

HPBOSE 12th Toppers: मेरिट लिस्ट में इस स्कूल के छात्रों की धाक, टॉप 10 में 3 छात्रों ने बनाई जगह
मिनर्वा स्कूल घुमारवीं के तीन छात्र टॉप 10 मेरिट लिस्ट में शामिल।

घुमारवीं/बिलासपुर: हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा घोषित 12वीं के परीक्षा परिणाम में मिनर्वा स्कूल घुमारवीं के छात्रों ने धाक जमाई है। स्कूल में तीन छात्रों ने टॉप 10 मेरिट लिस्ट में अपना में नाम दर्ज करवाया है। खाद्य आपूर्ति मंत्री राजेन्द्र गर्ग ने स्कूल पहुंचकर बच्चों को बधाई दी। 

छात्रों की इस उपलब्धि पर स्कूल व परिजनों में खुशी का माहौल है। स्कूल प्रशासन द्वारा अव्वल रहे छात्रों को सम्मानित किया गया। विज्ञान संकाय में अनुभव धीमान ने पूरे प्रदेश भर में पांचवां स्थान हासिल किया है। अनुभव ने 500 में से 488 अंक हासिल किए। जबकि तेजस्विनी ने पूरे प्रदेशभर में 8वां स्थान हासिल किया है। इसके अलावा अक्षित शामा ने पुरे प्रदेश भर में 10वां रैंक हासिल किया। अक्षित ने 500 में से 483 अंक प्राप्त किए हैं। 

5वां स्थान हासिल करने अनुभव धीमान का कहना है कि उन्होंने अपनी पढ़ाई के लिए 8 से 9 घंटे का समय दिया। अनुभव धीमान कांगड़ा के पंजेहड़ के निवासी हैं। अनुभव के पिता सुरजीत कुमार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खनाग आनी में प्रिंसिपल के पद पर तैनात हैं। जबकि माता पूजा धीमान टीजीटी आर्ट्स पद पर तैनात हैं।

अनुभव ने अपनी सफलता का श्रेय माता पिता व मिनर्वा स्कूल के गुरुजनों को दिया है। अनुभव डॉक्टर बनकर समाज सेवा करना चाहता है। परीक्षा परिणाम में 8वां स्थान हासिल करने वाली तेजस्विनी डॉक्टर बनना चाहती है। तेजस्वनी सरकाघाट के बड़ोई गांव की रहने वाली है।

परीक्षा में 500 में से 485 अंक प्राप्त करने वाली तेजस्वनी के पिता अशोक कुमार व माता अनिता देवी अध्यापक के पद पर कार्यरत हैं। तेजस्विनी ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता व मिनर्वा स्कूल के अध्यापकों को दिया है।

 वहीं, हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड परीक्षा परिणाम में 10वां स्थान हासिल करने वाले अक्षित ने घुमारवीं के लुहारवीं से हैं। अक्षित के पिता संजीव कुमार अध्यापक के पद पर नाल्टी स्कूल में कार्यरत हैं। जबकि माता वीना देवी गृहणी हैं। अक्षित ने बताया कि उन्होंने अपनी पढ़ाई के लिये 7 से 8 घंटे का समय दिया और वो आर्मी में जाकर देश सेवा करना चाहते चाहते हैं। अक्षित ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने माता पिता व मिनर्वा स्कूल के गुरुजनों को दिया है।