स्कूल में निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक में भरा बारिश का पानी, पास खेल रहे मासूम डूबे..

मृत बच्चों के पिता आजाद अली ने बताया कि वो किशनपुरा में रहता है। दोनों बच्चे ट्यूशन पढ़ने के लिए स्कूल के साथ लगते घर में गए हुए थे, लेकिन खेलते-खेलते कैसे वे वहां पर पहुंच गए। इस बारे में उन्हें जानकारी नहीं है।

स्कूल में निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक में भरा बारिश का पानी, पास खेल रहे मासूम डूबे..

सोलन: जिला सोलन के बद्दी में एक स्कूल के निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक में मंगलवार रात और बुधवार सुबह लगातार बारिश की वजह से पानी भर गया। स्कूल के साथ लगते घर में कुछ बच्चे ट्यूशन पढ़ने के लिए आए थे जो खेलते-खेलते स्कूल के पास पहुंच गए। बच्चे टैंक के आसपास खेल रहे थे और देखते ही देखते कब पानी में डूब गए किसी को पता नहीं चला। 

कुछ देर बाद वहां से निकल रहे लोगों ने एक बच्चे का शव पानी के ऊपर उतराता हुआ देखा तो शोर मचाया और बच्चे को बाहर निकाला उसके बाद पता चला कि छोटा भाई भी साथ था। होमगार्ड के जवान ने पानी के टैंक में छलांग लगाकर दूसरे बच्चे को बाहर निकाला।दोनों मासूमों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

मृत बच्चों की पहचान शहनवाज और मेहताब, चार वर्षीय और सात वर्षीय के रूप में हुई है। यूपी के चंदौली के बेराम गांव के आजाद अली अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ किशनपुरा में किराए के मकान में रहता हैं। आजाद अली की पत्नी निजी कंपनी में कार्यरत है। आंखों से कम दिखाई देने के चलते आजाद अली कमरे में ही रहते हैं। मासूमों की मौत के बाद पूरा परिवार रो-रोकर बेहाल है और एक साथ दो बच्चों की मौत का सदमा परिजनों के लिए सहन करना बेहद मुश्किल है।

मृत बच्चों के पिता आजाद अली ने बताया कि वो किशनपुरा में रहता है। दोनों बच्चे ट्यूशन पढ़ने के लिए स्कूल के साथ लगते घर में गए हुए थे, लेकिन खेलते-खेलते कैसे वे वहां पर पहुंच गए। इस बारे में उन्हें जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि टैंक ढका हुआ होता तो शायद यह हादसा न होता। उन्होंने पुलिस प्रशासन से इस मामले को लेकर न्याय की गुहार लगाई है।

इस दर्दनक हादसे की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों बच्चों के शवों को निकालकर पोस्टमार्टम के लिए नालागढ़ के सिविल अस्पताल भेजा गया। एसपी बद्दी मोहित चावला ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि बद्दी में एक स्कूल में सेप्टिक टैंक बनाने का कार्य चला हुआ था और दोनों बच्चे उसी टैंक के पास खेल रहे थे। खेलते-खेलते ये बच्चे टैंक के पास पहुंचे और उसमें गिर गए। जिस वजह से उनकी मौत हो गई । 

एसपी ने बताया कि काम कर रहे ठेकेदार की भी जांच पुलिस ने शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि जिस समय यह हादसा हुआ उस समय कोई भी लेबर का व्यक्ति वहां पर मौजूद नहीं था। वहीं, स्कूल प्रशासन से भी इस बारे में छानबीन की जा रही है कि क्या वहां पर कोई चौकीदार मौजूद था या नहीं। 

उन्होंने बताया कि मृत बच्चों में शहनवाज जो कि 4 साल का था और महाराज जो कि 7 वर्ष का था। मानपुरा पुलिस ने दोनों बच्चों के शवों को निकाल कर पोस्टमार्टम के लिए नालागढ़ के सिविल अस्पताल भेजा है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और छानबीन कर रही है।