पुलिस भर्ती लिखित परीक्षा: 116 आरोपी अभ्यर्थियों को परीक्षा में बैठने की इजाजत नहीं, अब तक 171 गिरफ्तार

डीजीपी संजय कुंडू बताते हैं कि पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में अब 170 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिनमें आरोपी अभ्यर्थियों के साथ-साथ पेपर दलाली करने वाले आरोपी भी शामिल है।

पुलिस भर्ती लिखित परीक्षा: 116 आरोपी अभ्यर्थियों को परीक्षा में बैठने की इजाजत नहीं, अब तक 171 गिरफ्तार
पुलिस भर्ती लिखित परीक्षा पर पत्रकार वार्ता के दौरान डीजीपी।

शिमला: हिमाचल प्रदेश पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती में धांधली के बाद दोबारा से लिखित परीक्षा 3 जुलाई दोपहर 12:00 से 1:00 तक आयोजित करवाई जा रही है। लिखित परीक्षा में 116 आरोपी अभ्यर्थियों को नहीं बैठने दिया जाएगा। हिमाचल प्रदेश पुलिस मुख्यालय में डीजीपी संजय कुंडू पहली बार इस प्रकरण पर मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान मामले में गठित एसआईटी प्रमुख मधुसूदन शर्मा भी मौजूद रहे। 

एसआईटी प्रमुख मधुसूदन शर्मा ने कहा कि इस मामले में पुलिस अधिकारियों की मिली भगत से इनकार नहीं किया जा सकता। एसआईटी एक हफ्ते में चार्जशीट दाखिल करेगी। साथ ही राज्य सरकार से आग्रह किया जाएगा कि धारा 420 में संशोधन किया जाए और राजस्थान की तर्ज पर सख्त कानून बने।

वहीं, डीजीपी संजय कुंडू बताते हैं कि पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में अब 171 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिनमें आरोपी अभ्यर्थियों के साथ-साथ नौ परिजन और पेपर दलाली करने वाले आरोपी भी शामिल है। डीजीपी कुंडू ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ एक हफ्ते में हाईकोर्ट में चार्जशीट दाखिल की जाएगी।

आपको बता दें कि इससे पहले लिखित परीक्षा 27 मार्च 2022 को आयोजित करवाई गई थी, लेकिन पेपर लीक होने की वजह से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने खुद परीक्षा रद्द करने को लेकर घोषणा की थी। इसके बाद मामले की एसआईटी और फिर सीबीआई जांच के आदेश दिए गए। हालांकि अभी तक एसआईटी ही मामले की जांच कर रही है।

गौरतलब है कि पुलिस विभाग में 1334 पदों पर कॉन्स्टेबल भर्ती के लिए शारीरिक दक्षता परीक्षा और शारीरिक मानक परीक्षा तीन मार्च 2022 को हुई थी, जिसमें 60,454 पुरुष, 14653 महिला और 696 आरक्षी चालक पुरुष पीईटी के आधार पर सफल हुए थे। लेकिन परीक्षा में हुई धांधली के खुलासे के बाद अब दोबारा लिखित परीक्षा आयोजित करवाई जा रही है।